छात्रवृत्ति योजना

  1. महाविद्यालयों में छात्रवृत्ति- प्रवेशिकोत्तर छात्रवृत्ति
    महाविद्यालयों में पढ़ने वाले अनुसूचित जातियों, अनूसूचित जनजातियों एवं अन्य पिछड़े वर्गों के छात्र/छात्राओं को छात्रवृत्ति प्रदान करने की योजना गैर योजना, योजना तथा केन्द्र प्रायोजित योजना के तहत् संचालित है। इस योजना के तहत् सरकार के नियमों के तहत् मान्यताप्राप्त महाविद्यालय/विश्वविद्यालय/ संस्थान में अध्यनरत छात्र/छात्रा को केन्द्र सरकार द्वारा निर्धारित नियमों एवं दरों के अनुरूप छात्रवृत्ति दिये जाने का प्रावधान है। इस योजना के तहत् सम्बंधित दिशा-निदेश केन्द्र सरकार के वेबसाईट http://Socialjustice.nic.in पर देखा जा सकता है। more details....
  2. विद्यालय छात्रवृत्ति
    राज्य के सरकारी विद्यालयों में वर्ग - 1 से 10 तक में अघ्यनरत अनुसूचितजाति एवं अनुसूचित जनजाति के छात्र/छात्राओं को विद्यालय छात्रवृति प्रदान किया जाता है। दिवाकालीन वर्ग-1 से 4 तक प्रति माह 50/- रू0, वर्ग-5 से 6 तक प्रतिमाह 100/- रू0 एवं वर्ग 7 से 10 तक प्रतिमाह 150/- रू0 के दर से छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। वर्ग-1 से 10 तक छात्रावासी छात्र/छात्रा को प्रतिमाह 250/- के दर से छात्रवृत्ति दिये जाने का प्रावधान है।

  3. प्रावैधिकी छात्रवृत्ति-
    इस योजना के तहत् वर्ग-10 के नीचे के वर्गों में अध्ययंनरत/योग्यता रखने वाले अनु0जाति एवं अनु0जनजाति के वैसे छात्र/छात्राओं को तकनिकी/ प्रावैधिकी छात्रवृत्ति देय होगी जो एन0सी0वी0टी0 (NCVT) से मान्यता प्राप्त संस्थान में अध्ययनरत हैं एवं जो पाठ्यक्रम एन0सी0वी0टी0 (NCVT)द्वारा निर्धारित है उन्हें प्रत्येक माह 500/- रू0 के दर से दिये जाने का प्रावधान है।
  4. मुख्यमन्त्री अनु0 जाति एवं अनु0 जनजाति मेधा वृत्ति योजना:-
    अनु0 जाति एवं अनु0 जनजाति के वैसे छात्र/छात्रा जो बिहार विधालय समिति से दसवीं की परीक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीण होंगे, उन्हें मुख्यमन्त्री अनु0 जाति एवं अनु0 जनजाति मेधा वृत्ति योजना के तहत् 10000.00 रू0 देने की योजना 2008-09 से प्रारंभ की गई है।
    more details....

  5. अस्वच्छ कार्यो में लगे व्यक्तियों के बच्चों को प्री-मैट्रिक छात्रवृति-
    यह केन्द्र प्रायोजित योजना एवं गैर योजना दोनों मदों से संचालित है। केन्द्र प्रायोजित योजना के अन्तर्गत 100 प्रतिशत राशि (दिनांक-1/4/2008 से) भारत सरकार द्वारा वहन किया जाता है। इस योजना का उदेश्य शौचालय की सफाई करने वालों, चर्मशोधन करने वालों, चमडा उधाड़ने वालों तथा सफाई कार्य से परम्परागत रूप से जुडे़ सफाई कर्मचारियों के बच्चों को मैट्रीक पूर्व शिक्षार्जन हेतु वित्तीय सहायता प्रदान करना है।
    more details....

  6. मुशहर एवं भुईंया जाति के बच्चों को छात्रवृति-
    अनु0जाति एवं अनु0 जनजाति कल्याण विभाग द्वारा मुसहर जाति के लोगों में शिक्षा के प्रसार हेतु विशेष कार्यक्रम शुरू किया गया है। इनके बच्चे विद्यालयों में शिक्षा ग्रहण करने जांय, इसके लिये विशेष प्रोत्साहन का भी प्रयास किया गया है जिसके अन्तर्गत रू0 100/- प्रतिमाह वर्ग 1 से 6 के लिये प्रावधान किया गया है ताकि वे छात्र/छात्राएं इससे प्रोत्साहित होकर विद्यालय जायं और बीच में ही वे विद्यालय न छोड़ें । वर्ष 2009-10 से भूंइयां जाति को भी इस योजना में सम्मिलित किया गया है।

  7. क्रीडा छात्रवृति योजना-
    अनु0जाति एवं अनु0जनजाति के लड़के-लड़कियॉ खेल-कूद में काफी रुचि लेते है, लेकिन समुचित व्वयस्था एवं समुचित प्रोत्साहन के अभाव में उन्हें खेल-कुद प्रतियोगिता में भाग लेने का अवसर नहों मिल पाता है। इस योजना के तहत् बच्चों को विशेष प्रशिक्षण दिये जाने का प्रावधान है।